कोटा। पबजी गेम ने एक और बच्चे की जान ले ली। ताजा मामला राजस्थान के कोटा का है, जहां 14 साल के एक किशोर ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली है।

पुलिस की जांच में सामने आया कि फांसी लगाने के पहले तक वह अपने मोबाइल में पबजी गेम खेल रहा था। परिजनों ने बताया कि किशोर तीन दिन पहले ही पबजी गेम डाउनलोड किया था और लगातार उस पर गेम ही खेल रहा था।

आत्महत्या वाली रात को भी उसने तीन बजे तक पबजी खेला था। पुलिस ने शव को अपने कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है और मामले की जांच शुरू कर दी है।

फंदे से लटकता मिला शव

रेलवे कॉलोनी पुलिस थाने के प्रभारी हंसराज मीणा ने बताया, किशोर 9वीं कक्षा का छात्र था और उसके पिता सेना में कार्यरत हैं।

उन्होंने बताया कि शनिवार सुबह किशोर बेडरूम में बने रोशनदान के जंगले में लगे फंदे से लटका मिला। बता दें, तमिलनाडु मूल का यह परिवार कोटा के गांधी नगर इलाके में रह रहा था।

रेलवे कॉलोनी थाना प्रभारी ने बताया कि प्रारंभिक जांच में यह पता चला है कि तीन दिन पहले ही किशोर ने अपनी मां के फोन में पबजी गेम डाउनलोड किया था,

जिसके बाद से उसका ज्यादातर समय पबजी गेम खेलने में जा रहा था। उन्होंने बताया कि किशोर रात तीन बजे तक उस कमरे में पबजी खेल रहा था, जहां पर उसका भाई पढ़ाई कर रहा था। इसके बाद वह बगल के कमरे में सोने चला गया।

पबजी की वजह से पहले भी जा चुकी हैं जानें

रविवार सुबह परिजनों ने किशोर को रोशनदान के जंगले में लगे फंदे से लटका पाया। परिजनों ने किशोर को तत्काल से उतारा और एमबीएस अस्पताल लेकर पहुंचे,

जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। बता दें, पबजी गेम की वजह से पहले भी कई सुसाइड के केस सामने आ चुके हैं।

पबजी यानि प्लेयर अननोंस बैटलग्राउंड साउथ कोरिया की कंपनी ब्लूहोल की सहायक कंपनी पबजी कॉरपोरेशन द्वारा तैयार किया गया ऑनलाइन गेम है।

इस गेम को एक साथ कई प्लेयर्स आनलाइन खेलते हैं। नौ फरवरी 2018 से भारत में लांच हुए इस गेम ने भारतीय युवाओं को अपना दीवाना बना दिया है।

यूपी में भी सामने आ चुके हैं ऐसे मामले

इससे पहले उत्तर प्रदेश के मथुरा में युवक ने कमरे में लगे पंखे से फंदा लगाकर जान दे दी थी। युवक पबजी खेल खेलता था और पिता ने उसका मोबाइल छीन लिया था।

रात में प्रत्युष शर्मा (19) अपने कमरे में सोने चला गया था। सुबह काफी देर तक जब वह जागकर अंदर से नहीं निकला तो परिजनों ने उसे आवाज लगाकर जगाया, लेकिन अंदर से कोई प्रतिक्रिया नहीं आई।

दरवाजा खटखटाने पर भी आवाज नहीं आई तो परिजनों ने शक होने पर जंगले से झांककर देखा तो उनकी चीख निकल गई। प्रत्युष गले में साड़ी का फंदा लगा कर पंखे से लटका हुआ था।

बच्चों के स्वास्थ्य और दिमाग पर बुरा असर डाल रहा पबजी

देश में युवाओं और बच्चों के बीच पबजी गेम का क्रेज बढ़ता ही जा रहा है। देश में इस गेम को खेलने के लिए महिला से लेकर युवा भी इसमें पीछे नहीं है।

जिसके चलते यह कई जगहों पर समस्या बन गया है। पबजी गेम की वजह से चोरी और हत्या जैसी घटनाएं भी बढ़ने लगी हैं। वहीं बच्चे पढ़ाई और दूसरे बच्चों के साथ खेलना छोड़कर इसी गेम में डूब गए हैं और पबजी की बुरी लत इनके स्वास्थ्य और दिमाग पर बुरा असर डाल रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here