राशिफल

Surya Grahan 2021: Do’s, Don’ts and Remedies to avoid inauspicious effects of solar eclipse

सूर्य ग्रहण 2021 गुरुवार, 10 जून को होगा। यह 0.97 परिमाण का वलयाकार सूर्य ग्रहण होगा। 10 जून 2021 का ग्रहण पूर्ण सूर्य ग्रहण नहीं होगा क्योंकि चंद्रमा की छाया सूर्य के केवल 97% हिस्से को कवर करेगी। वलयाकारिता की सबसे लंबी अवधि 3 मिनट 44 सेकंड की होगी।
हिंदू मान्यताओं के अनुसार, ग्रहण के दौरान पृथ्वी का वातावरण दूषित होता है, इसलिए संदूषण के किसी भी हानिकारक दुष्प्रभाव से बचने के लिए सभी को अतिरिक्त सावधानी बरतनी चाहिए। सूर्य ग्रहण के अशुभ प्रभावों से बचने के लिए क्या करें, क्या न करें और उपाय देखें
सूर्य ग्रहण के दौरान निषिद्ध कार्य:

  1. ग्रहण के समय सोने से बचें, ग्रहण के दौरान केवल बुजुर्ग, अस्वस्थ व्यक्तियों और शिशुओं को ही जाने की अनुमति है।
  2. ग्रहण काल ​​में खाना बनाना और खाना दोनों ही अशुभ होते हैं, लेकिन अस्वस्थ लोग दवा ले सकते हैं।
  3. ग्रहण काल ​​में जमीन नहीं खरीदनी चाहिए। किसी भी प्रकार का मांगलिक कार्य प्रारंभ करना वर्जित है।
  4. ग्रहण काल ​​के दौरान भगवान की मूर्ति को छूना और उसकी पूजा करना भी वर्जित है।
  5. तुलसी के पौधे को पानी देना और छूना मना है।
  6. ग्रहण काल ​​में गर्भवती महिलाओं को घर से बाहर निकलने से बचना चाहिए।

सूर्य ग्रहण के अशुभ प्रभाव से बचने के उपाय:

  1. किसी भी मंदिर या ब्राह्मण को गेहूं, गुड़, तांबा या घी का दान करें।
  2. काले कुत्तों को तली हुई रोटी खिलाएं।
  3. सूर्य को जल अर्पित करें।
  4. आदित्य हृदय स्तोत्र का जाप करें।
  5. गाय को हरा चारा खिलाएं।
  6. पक्षियों को अनाज का मिश्रण खिलाएं।
  7. मांस-मदिरा से दूर रहें और आचरण शुद्ध रखें।
  8. दुर्गा माता के मंदिर में चावल का दान करें।
  9. भगवान शिव को केसर मिलाकर जल या दूध का भोग लगाएं।

लेखक, समीर जैन, जयपुर स्थित ज्योतिषी हैं, जो ज्योतिष, अंकशास्त्र, हस्तरेखा और वास्तु के विशेषज्ञ हैं। वह जैन मंदिर वास्तु और जैन ज्योतिष के विशेषज्ञ भी हैं। पिछले कई वर्षों में, उन्होंने संयुक्त राज्य अमेरिका, ब्राजील, मैक्सिको, कनाडा, यूके, ऑस्ट्रेलिया, तुर्की, फ्रांस, इटली, दक्षिण अफ्रीका और जर्मनी के ग्राहकों से परामर्श किया है।

About the author

News Sateek

Leave a Comment